Warning: session_start(): open(/var/cpanel/php/sessions/ea-php73/sess_5186593a3aa83c700e66c8c10e67efab, O_RDWR) failed: No such file or directory (2) in /home/vwrfxhci52eu/public_html/ramalshastra.com/wp-content/plugins/wp-user-avatar/src/Classes/PPRESS_Session.php on line 286

Warning: session_start(): Failed to read session data: files (path: /var/cpanel/php/sessions/ea-php73) in /home/vwrfxhci52eu/public_html/ramalshastra.com/wp-content/plugins/wp-user-avatar/src/Classes/PPRESS_Session.php on line 286
Dharm Archives - Ramal Astrology

Category - Dharm

भारतीय ज्योतिष और उसका इतिहास

अपना भविष्य जानने की अभिलाषा मनुष्य में प्राकृतिक एवं अनिवार्य हैं, यथा। वन समाश्रिता येपि निर्ममा निष्परिग्रहा:। अपिते परिपृच्छन्ति ज्योतिषां गति कोविदम्॥ ‘‘जो सर्वसंग परित्याग कर वन का आश्रय ले चुके हैं, ऐसे राग-द्वेष...

भद्रा

भद्रा अथवा विष्टि पंचागों की एक व्यापक वस्तु है। जिस तिथि को विष्टि किरण पड़े उस दिन भद्रा होती है। यह प्राय: प्रत्येक द्वितीया, तृतीया, सप्तमी, अष्टïमी और द्वादशी व त्रयोदशी को लगी रहती है। मुहर्त चिन्तामणि की पीयूष...

नक्षत्र और वर-वधू का चयन

विवाह द्वारा दो भिन्न व्यक्तित्व एक सूत्र में बंधते हैं, जिन्हें जीवन भर एक-दूसरे के पूरक के रूप में साथ निभाना पड़ता है। पति-पत्नी जीवन रूपी रथ के दो पाहिए हैं। यदि इनमें से एक पहिए के गुण दूसरे पहिए के गुणों से भिन्न...

Follow us

Don't be shy, get in touch. We love meeting interesting people and making new friends.

error: Content is protected !!